वैश्विक महामारी कोरोना के समय स्टार्टअप और एमएसएमई सेक्टर उम्मीद की एक नई किरण: योगी आदित्यनाथ

-कहा-एमएसएमई सेक्टर के लिए गेम चेंजर का काम करेगी ओडीओपी
-मुख्यमंत्री योगी ने सिडबी भवन का किया ऑनलाइन शिलान्यास

लखनऊ,(आरएनएस )। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सोमवार को गोमतीनगर विस्तार में शहीद पथ स्थित सिडबी भवन का ऑनलाइन शिलान्यास किया। इस मौके पर उन्होंने कहा कि मैं सबसे पहले धन्यवाद देता हूं सिडबी के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक को, जिन्होंने लगभग 30 वर्ष के बाद देश की सबसे बड़ी आबादी वाले राज्य में भारतीय लघु उद्योग विकास बैंक (सिडबी) के अपने स्वयं के मुख्यालय का मार्ग आपने प्रशस्त किया है।

यह उन्नति प्रदेश और देश के एमएसएमई सेक्टर के लिए प्रसन्नता का अवसर है। मुख्यमंत्री ने सिडबी के नए मुख्यालय भवन के डिस्पले को देखने के बाद उसकी तारीफ की। उन्होंने कहा कि इसे ग्रीन बिल्डिंग के रूप में विकसित करने की संकल्पना दी गई है। इसमें ऊर्जा संरक्षण, जल की रिसाइकिलिंग, सौर ऊर्जा के बेहतर उपयोग का नया कान्सेप्ट देने का प्रयास हुआ है। यह प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की उस सोच को प्रदर्शित करता है, जिसमें हम सब मिलकर ऊर्जा की बचत के साथ ही ग्रीन एनर्जी को प्रोत्साहित करने और जल संरक्षण के अभियान को आगे बढ़ा रहे हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि एमएसएमई सेक्टर के प्रोत्साहन के लिए भी यहां जो व्यवस्था दी गई है। वह बेहद महत्वपूर्ण है। क्योंकि सिडबी एमएसएमई सेक्टर के संवर्धन, वित्त पोषण और विकास के लिए काय करने वाली प्रमुख वित्तीय संस्था है। सिडबी के जरिए भारत सरकार के प्रमुख स्टार्टअप फंड के निधि प्रबन्धन का कार्य हो या फिर प्रधानमंत्री ने 2014 में स्टार्टअप इंडिया, स्टेंडअप इंडिया और मेक इन इंडिया जैसे जो कार्यक्रम प्रारम्भ किए थे, उनका आधार सिडबी ही है। मुख्यमंत्री ने कहा कि सिडबी के माध्यम से स्टार्टअप को आगे बढ़ाने में जो मदद अब तक मिली है उसके बहुत सकारात्मक परिणाम युवाओं में और समाज के विभिन्न तबकों में देखने को मिले हैं। हमारा ये मानना है कि स्टार्टअप की प्रधानमंत्री की सकारात्मक सोच ने देश में एक सकारात्मक माहौल दिया है। लोगों को एक नई सोच के साथ आज के युवा को हम लोगों ने रोजगार आकांक्षी बनाने के बजाए रोजगार प्रदाता बनाने में बहुत बड़ी मदद की है और वह वर्तमान भारत की ताकत को भी प्रदर्शित करता है। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में स्टार्टअप फंड की स्थापना लगभग 1000 करोड़ रुपये की लागत से जो प्रारंभ हुआ है, इसमें सिडबी ने यूपी के साथ विगत दिनों में एक एमओयू किया है। इससे आत्मनिर्भर अभियान तथा लोगों को स्वावलंबन की ओर अग्रसर होने में मदद मिलेगी। उत्तर प्रदेश की अभिनव योजना ‘एक जिला एक उत्पाद’(ओडीओपी) एमएसएमई सेक्टर के लिए गेम चेंजर का काम करेगी। हमने वर्ष 2018 में इसे शुरू किया था और आज केन्द सरकार ने भी ओडीओपी को अपने स्वयं के अभियान का हिस्सा बनाकर प्रत्येक राज्य को इस दिशा में कार्य करने के लिए प्रोत्साहित किया है। आज जब पूरी दुनिया वैश्विक महामारी कोरोना से जूझ रही है, तो ऐसे समय में स्टार्टअप तथा एमएसएमई सेक्टर उम्मीद की एक नई किरण है। इस चुनौतीपूर्ण समय में सपनों को साकार करने और अर्थव्यवस्था को और भी सुदृढ़ करने में सिडबी की बहुत बड़ी भूमिका हो सकती है। हमारे लिए गौरव की बात है कि सिडबी का प्रधान कार्यालय लखनऊ में होने के साथ ही एमएसएमई सेक्टर को उप्र के अन्दर विकसित करने में हमारे के लिए बेहतर अवसर है।

Like us share us

Leave a Reply

Your email address will not be published.