रिया ड्रग्स मामले में एनसीबी की मुंबई में रेड -शोविक का दोस्त सूर्यदीप मेहरोत्रा हिरासत में


मुंबई ,14 सितंबर (आरएनएस)। अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में दिन ब दिन नए-नए खुलासे हो रहे हैं। इसी मामले को लेकर नाकरोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) ने एक बार फिर मुंबई में एक बड़े ड्रग पैडलर के घर छापेमारी की है।

एनसीबी की टीम ने सूर्य दीप मेहरोत्रा नाम के ड्रग पैडलर के घर छापेमारी कर उसे हिरासत में लिया है। एक दिन पहले ही एनसीबी ने मुंबई और गोवा में कार्रवाई कर सात लोगों को गिरफ्तार किया था। इनसे पूछताछ के बाद एनसीबी के हाथ कई बड़े सबूत लगे थे। वहीं सूर्यदीप, रिया चक्रवर्ती के भाई शोविक का स्कूल फ्रेंड है और उसके कई चैट सामने आए हैं। सूर्यदीप को थोड़ी देर में एनसीबी दफ्तर लाया जा सकता है।
बता दें कि रिया चक्रवर्ती और बॉलीवुड ड्रग्स कनेक्शन में पकड़े सात ड्रग्स पैडलरों को आज एसीएमएम कोर्ट में पेश किया जाएगा। सभी आरोपियों को मेडिकल टेस्ट के लिए ले जाया जा रहा है। सात में से एक आरोपी गोवा से गिरफ्तार हुआ था। जिन लोगों की पेशी है उनके नाम हैं- करमजीत सिंह आनंद उर्फ केजे, ड्वैन फर्नांडीस, संकेत  पटेल, अंकुश अरजेंका, संदीप गुप्ता, आफताब फतेह अंसारी और क्रिस कोस्टा।
सबसे अहम गिरफ्तारी हुई ड्रग पेडलर केजे उर्फ करमजीत की। 23 साल के केजे से गांजा और चरस मिला। दादर से एंथोनी समेत दो ड्रग पेडलर पकड़े गए। इनसे भी आधा किलो गांजा मिला। पवई से अंकुश अरनेजा को दबोचा गया, जो केजे से ड्रग्स लेता था। गोवा से क्रिश कोस्टा पकड़ा गया। इन गिरफ्तारियों के बाद ड्रग कनेक्शन की तस्वीर काफी कुछ साफ होती जा रही है।
ड्रग रैकेट चार बड़े खिलाड़ी सामने आए हैं। करमजीत उर्फ केजे, जैद विलात्रा, अनुज केशवानी और अंकुश अरनेजा। करमजीत रैकेट का बड़ा खिलाड़ी था। उसने दस बार सैमुअल मिरांडा और दीपेश सावंत के जरिये सुशांत तक ड्रग पहुंचाई। शोविक के कुछ और राजदार भी कॉल डिटेल के आधार पर एनसीबी के रडार पर आ गए हैं।
केजे के जरिए सैमुअल मिरांडा और दीपेश सावंत को ड्रग्स मिलती थी। इसके बाद  शोविक और रिया से होते हुए सुशांत तक। एंथनी भी कई बार दीपेश और मिरांडा को ड्रग देता था जो  सुशांत तक पहंचती थी। पूरा रैकेट ये था कि क्रिस कोस्टा से ड्रग केसवानी तक आती थी। कैजान मिडिलमैन था। उससे ड्रग करमजीत को मिलती और फिर आगे जाती।

Like us share us

Leave a Reply

Your email address will not be published.