चौथा चरण: अपना किला बचा पाएगी बीजेपी या कांग्रेस करेगी सेंधमारी

चौथे चरण में 29 अप्रैल को 9 राज्यों की 71 लोकसभा सीटों पर मतदान होना है. इस चरण में कई दिग्गजों की किस्मत का फैसला होगा. इनमें सीपीआई उम्मीदवार कन्हैया कुमार से लेकर हाल ही में कांग्रेस में शामिल हुईं अभिनेत्री उर्मिला मातोंडकर तक शामिल हैं. इस चुनाव में जहां बीजेपी के सामने 2014 में मिली जीत को दोहराने की चुनौती है, वहीं विपक्षी दल बीजेपी को केंद्र की सत्ता से बेदखल करने के लिए ताल ठोेक रहे हैं.उत्तर प्रदेश में 6 सीटों पर दांव

इस चरण में उत्तर प्रदेश में जिन 13 सीटों पर मतदान होना है, उनमें से सात सीटों पर भारतीय जनता पार्टी को बहुजन समाज पार्टी (बसपा)-समाजवादी पार्टी (सपा) महागठबंधन से कड़े मुकाबले का सामना करना पड़ेगा. चौथे चरण में पूर्व केंद्रीय मंत्रियों सलमान खुर्शीद, श्रीप्रकाश जायसवाल, उत्तर प्रदेश के मौजूदा कैबिनेट मंत्री सत्यदेव पचौरी, सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव की पत्नी डिंपल यादव, साक्षी महाराज और राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग के अध्यक्ष रामशंकर कठेरिया जैसे राजनीतिक दिग्गजों की प्रतिष्ठा दांव पर है.

यूपी में 29 अप्रैल को जिन 13 सीटों पर मतदान है, उनमें से छह पर बीजेपी ने कब्जा जमाया था. इस चरण में चुनाव से गुजर रही सीटों में से ज्यादातर पर बसपा और सपा का खासा दबदबा माना जाता है. हालांकि 2014 के चुनाव में बिल्कुल जुदा तस्वीर उभरी थी और 12 सीटों पर भगवा लहराया था.

अगर पिछले लोकसभा चुनाव के दौरान सपा और बसपा को मिलने वाले मतों पर गौर करें तो बीजेपी को शाहजहांपुर, खीरी, हरदोई, मिसरिख, इटावा, झांसी और कन्नौज में कड़ी चुनौती का सामना करना पड़ सकता है. कन्नौज वैसे भी डिंपल यादव की वजह से सपा की झोली में है. पिछली बार डिंपल ने भले ही कम मतों से जीत दर्ज की थी, लेकिन इस बार बसपा के समर्थन से जीत का अंतर बढ़ सकता है.

किसे चुनेगी बेगूसराय की जनता

सोमवार यानी 29 अप्रैल को बिहार के पांच लोकसभा क्षेत्रों दरभंगा, उजियारपुर, समस्तीपुर, बेगूसराय और मुंगेर में मतदान होना है. बेगूसराय से केंद्रीय मंत्री और बीजेपी नेता गिरिराज सिंह मैदान में हैं और जेएनयू के पूर्व छात्र नेता कन्हैया कुमार उन्हें टक्कर दे रहे हैं. इस सीट पर आरजेडी के तनवीर हसन भी अपनी उम्मीदवार पेश कर रहे हैं.

गिरिराज सिंह और कन्हैया के अलावा इस चरण में आरजेडी के वरिष्ठ नेता और पूर्व मंत्री अब्दुल बारी सिद्दिकी, बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष नित्यानंद राय, राष्ट्रीय लोकसमता पार्टी के अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा, लोक जनशक्ति पार्टी के रामचंद्र पासवान, बिहार के मंत्री राजीव रंजन सिंह उर्फ ललन सिंह सहित 66 उम्मीदवार मैदान में हैं.

महाराष्ट्र की 17 सीटों के लिए 323 उम्मीदवार मैदान में हैं. महाराष्ट्र में चुनावी दौड़ में शामिल मुख्य प्रत्याशियों में केंद्रीय मंत्री बीजेपी के सुभाष भामरे (धुले), कांग्रेस की उर्मिला मातोंडकर (मुंबई उत्तर), प्रिया दत्त (मुंबई उत्तर मध्य) और मिलिंद देवड़ा (मुंबई दक्षिण) और मावल से राकांपा प्रमुख शरद पवार के भतीजे अजीत पवार के बेटे पार्थ पवार शामिल हैं.

वहीं ओडिशा के मयूरभंज, बालेश्वर, जाजपुर, केंद्रपाड़ा और जगतसिंहपुर लोकसभा सीटों पर वोटिंग होगी जहां से प्रमुख चेहरों में बीजेपी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बैजयंत पांडा (केंद्रपाड़ा लोकसभा सीट) और प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष निरंजन पटनायक शामिल हैं.

MP-राजस्थान में वंश पर दांव

वहीं राजस्थान में 29 अप्रैल को 13 सीटों पर मतदान होंगे. राज्य में लोकसभा की कुल 25 सीटें हैं. इन 13 सीटों में दो सीटें सबसे ज्यादा चर्चा में हैं- जोधपुर और झालावाड़. जोधपुर से मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के बेटे वैभव मैदान में हैं जबकि झालावाड़ से पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के बेटे दुष्यंत सिंह चुनाव लड़ रहे हैं.

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ के बेटे नकुल नाथ (कांग्रेस), मध्य प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष राकेश सिंह और पूर्व केंद्रीय मंत्री फग्गन सिंह कुलस्ते (बीजेपी) जैसे दिग्गज नेताओं की प्रतिष्ठा दांव पर है. वहीं, छिन्दवाड़ा विधानसभा सीट के लिए हो रहे उपचुनाव में मुख्यमंत्री कमल नाथ भी मैदान में हैं. सीधी, शहडोल, जबलपुर, मंडला, बालाघाट और छिन्दवाड़ा के लिए 29 अप्रैल को मतदान होगा.

बंगाल में हिंदुत्व पर सवार बीजेपी

हिंदुत्व उभार और स्थानीय मुद्दों पर राष्ट्रीय मुद्दों के हावी होने के बीच पश्चिम बंगाल में सत्ताधारी तृणमूल कांग्रेस ने नदिया जिले के कृष्णनगर में कड़े मुकाबले के लिए कमर कस ली है. बीजेपी ने कृष्णनगर को लक्ष्य बनाया है जो कि 15वीं सदी के बंगाली संत चैतन्य महाप्रभु की धरती है. बीजेपी पिछले लोकसभा चुनाव में मिले वोट प्रतिशत और 2018 के विधानसभा चुनावों में बनाई अपनी पैठ के आधार पर भरोसा कर रही है. यह सीट राज्य की उन कुछ चुनिंदा सीटों में से एक है जिस पर पार्टी ने कभी जीत हासिल की है.

1999 के आम चुनाव में बीजेपी के सत्यव्रत मुखर्जी ने तब हाल में बनी तृणमूल कांग्रेस के साथ गठबंधन में यह सीट जीती थी. वह तब अटल बिहारी वाजपेयी सरकार में मंत्री भी बने थे और राज्य में पार्टी का नेतृत्व भी किया था. बीजेपी  ने इस बार भारतीय फुटबाल टीम के पूर्व कप्तान कल्याण चौबे को मैदान में उतारा है जिनकी नजर यह सीट तृणमूल कांग्रेस से अपने खाते में करने पर है. यह क्षेत्र दक्षिण बंगाल में आता है जिसे मुख्यमंत्री ममता बनर्जी का गढ़ माना जाता है.

गौरतलब है कि नौ राज्यों की 72 संसदीय सीटों पर 29 अप्रैल को चौथे चरण में होने वाले मतदान के लिए प्रचार अभियान हफ्तों की भरपूर मेहनत के बाद शनिवार को थम गया. चौथे चरण का चुनाव जिन सीटों पर होना है उनमें महाराष्ट्र की 17, ओडिशा की छह, झारखंड की तीन, मध्य प्रदेश की छह, पश्चिम बंगाल की आठ, उत्तर प्रदेश की 13, बिहार की पांच, राजस्थान की 13 और अनंतनाग निर्वाचन क्षेत्र का एक हिस्सा शामिल है.

सत्तारूढ़ बीजेपी और उसके सहयोगियों के लिए इस चरण में चुनाव में बहुत कुछ दांव पर है क्योंकि 2014 में उसे इन 72 में से 56 सीटों पर जीत हासिल हुई थी और कांग्रेस महज दो सीट पर सिमट गई थी और अन्य सीटों पर तृणमूल कांग्रेस एवं बीजू जनता दल जैसी पार्टियों के खाते में गई थी.

Like us share us

Leave a Reply

Your email address will not be published.