आप’ के कार्यालय पर ताला, सांसद संजय सिंह ने लगाया CM योगी आदित्यनाथ पर आरोप


लखनऊ।
(आरएनएस )उत्तर प्रदेश में पंचायत चुनाव में अपने प्रत्याशी तय करने की तैयारी में लगी आम आदमी पार्टी के लखनऊ में स्थित कार्यालय पर ताला लटका है। इसको लेकर आम आदमी पार्टी से राज्यसभा के सदस्य संजय सिंह ने उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ पर गंभीर आरोप जड़ा है। संजय सिंह रविवार को दोपहर में तीन बजे इसी कार्यालय में प्रेंस कॉन्फ्रेंस की।


लखनऊ में आम आदमी पार्टी के कार्यालय, गोमतीनगर में ताला लटका देख पार्टी के राज्यसभा सदस्य संजय सिंह बिफर पड़े। उन्होंने इसमें योगी आदित्यनाथ सरकार का हाथ बताया है। संजय सिंह ने इसको लेकर ट्वीट किया। उन्होंने ट्वीट कर लिखा कि योगी जी यह क्या बचकाना खेल रहे। मेरे कार्यालय पर ताला डलवा दिया। पुलिस भेजकर रात 12:00 बजे, सुबह 8:00 बजे और फिर 10:00 बजे मेरे मकान मालिक को धमकाया। इतनी मेहनत अपराध रोकने में करते तो जनता का भला होता। चिंता मत करो। हम आम आदमी हैं। सड़क पर कार्यालय खोल लेंगे, लेकिन आपके जुल्मी सरकार को बेनकाब करता रहूंगा। संजय सिंह के इस ट्वीट के बाद राजधानी के सियासी गलियारे में सियासत गर्म होने लगी है।

आम आदमी पार्टी के कार्यालय पर ताला लगने के प्रकरण पर गोमती नगर के एसएचओ धीरज कुमार सिंह ने कहा कि पुलिस ने किसी के पार्टी कार्यालय पर कोई ताला नहीं लगाया है। ना ही पुलिस वहां गई है। यह ताला किसने और क्यों लगाया?… इस बारे में मुझे जानकारी नहीं है। उन्होंने कहा कि पुलिस पर अनर्गल और निराधार आरोप लगाए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि हो सकता है मकान मालिक से उनमें किसी बात को लेकर कुछ विवाद हुआ हो। इस बारे में मकान मालिक से पूछताछ के बाद ही मामला स्पष्ट हो सकेगा, लेकिन पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की है।

थाना प्रभारी के स्थिति स्पष्ट करने के बाद संजय सिंह ने एक ट्वीट और किया है, जिसमें उन्होंने गोमतीनगर में आप पार्टी के कार्यालय के बाहर खड़े होकर अपना एक वीडियो बनाया। उसमें कहा कि योगी जी आपसे अपराध नहीं रुक रहे, लेकिन मुझे रोकना चाह रहे हैं। उन्होंने दावा किया है कि पिछले कुछ माह से मैं सच की आवाज उठाता रहता हूं। इसी कारण योगी सरकार ने मकान मालिक पर दबाव डालकर मेरे कार्यालय पर ताला लगवा दिया। मैं नहीं चाहता कि मेरी वजह से मकान मालिक परेशान हों। मैं कहीं दूसरी जगह अपना कार्यालय खोल लूंगा। कई लोगों के मुझे फोन आ रहे हैं, कि मेरे यहां अपना दफ्तर खोल लीजिए। योगी जी यह हरकत करना बंद करें। अगर उन्हेंं मुझको गिरफ्तार कराना है तो कर लें। मैं लखनऊ में ही हूं। आप आम आदमी पार्टी का कार्यालय तो बंद कर सकते हैं योगी जी लेकिन सच की आवाज नही बंद हो सकती। आपके जुल्म ज़्यादती के खिलाफ बोलता रहा हूं और बोलता रहूंगा। बचकाना खेल खेलना बंद करो, लखनऊ में हूं। गिरफतार करो। हम आम आदमी पार्टी के लोग हैं, हमको कार्यालय की जरूरत नहीं है। हम तो सड़क पर कार्यालय खोल लेंगे, हमसे आप इतना घबरा क्यों रहे हैं, इसका कारण समझ में नहीं आ रहा है।  

Like us share us

Leave a Reply

Your email address will not be published.