सेवा केंद्र के सराहनीय कार्य

डॉ दिलीप अग्निहोत्री

कोरोना आपदा राहत में अनेक संस्थाएं योगदान कर रही है। इस महीने के प्रारंभ से ही दत्तोपंत ठेंगड़ी क्वैरेन्टाइन व सेवा केंद्र का संचालन किया जा रहा है। जिसमें क्वैरेन्टाइन कक्ष के अतिरिक्त सामान्य विश्राम कक्ष भी स्थापित किए गए हैं। सेंटर का संचालन विद्या भारती और प्रबंधन भाऊराव देवरस सेवा न्यास के द्वारा वैदिक सेवा न्यास और यूनाइट फाउन्डेशन के संयुक्त सहयोग से किया जा रहा है। विश्राम सदन में कुल पच्चीस कमरों में एक सौ बयालीस बेड की व्यवस्था की गई है।

यूनाइट फाउण्डेशन के उपाध्यक्ष राधेश्याम दीक्षित ने बताया कि दत्तोपंत ठेंगड़ी क्वैरेन्टाइन और सेवा केंद्र के कार्यों से प्रभावित होकर शुद्ध दूध समूह भी केजीएमयू के चिकित्सा स्टाफ की सेवा के लिए हर दिन दूध और मट्ठे का नि शुल्क योगदान दे रहा है। शुद्ध दूध के मालिक प्रशांत उपाध्याय ने बताया कि शुद्ध दूध केजीएमयू के अलावा भी विभिन्न सामाजिक संगठनों के माध्यम से कोरोना काल में जनसेवा के कार्यों मे योगदान दे रहा है।

विद्या भारती के क्षेत्रीय प्रचार प्रमुख सौरभ मिश्रा के मुताबिक परिसर में हर दिन सेंटर पर ठहरने वालों के लिए पूरी तरह स्वच्छ कमरों के साथ बेडिंग और सैनिटाइज्ड शौचालयों की व्यवस्था की जा रही है। विश्राम सदन में चिकित्सकों, स्टाफ के लिए स्वास्थ्यवर्धक भोजन की व्यवस्था तीन समय पर चाय के साथ की जा रही है। वैदिक सेवा न्यास के अध्यक्ष डॉ. श्यामलेश कुमार तिवारी ने बताया कि सेवा केन्द्र में प्रतिदिन करीब सौ लोग भोजन करते हैं। वहीं सेंटर पर केजीएमयू के विभिन्न विभागों के स्टाफ और टेक्निशियन्स के लावा नर्सेज विश्राम करती हैं।

गौरतलब है कि कोरोना वॉरियर्स के लिए महामारी काल में घर से आना जाना बेहद मुश्किल हो रहा है। कोरोना के संक्रंमण के मद्देनजर संपूर्ण परिसर को प्रतिदिन सैनिटाइज करने के साथ ही साफ सफाई का विशेष ध्यान रखा जा रहा है। दत्तोपंत ठेंगड़ी क्वैरेन्टाइन और सेवा केंद्र का केजीएमयू के कुलपति डॉ.एम एल बी भट्ट ,डॉ.एस.एन.शखवार,डॉ. नरसिंह रावत डॉ.जे.डी रावत ने निरीक्षण किया। यहां की व्यवस्था को सराहनीय बताया।

Like us share us

Leave a Reply

Your email address will not be published.