कृषि कानून वापस लेने की मांग को लेकर किसानों के समर्थन में BSP मुखिया मायावती | Farmers Protest Latest News

कोरोना वायरस संक्रमण की सेकेंड स्ट्रेन के गति पकडऩे के साथ ही मंद पड़ी कृषि कानून को वापस लेने की मांग अब फिर से तेज होने लगी है। राष्ट्रीय लोकदल के 26 मई को होने वाले किसानों के प्रदर्शन को समर्थन देने की घोषणा के बाद बहुजन समाज पार्टी ने भी किसानों के साथ आने की घोषणा कर दी है।

उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री बहुजन समाज पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती किसानों के समर्थन में खड़ी हो गई है। किसानों की कृषि कानून वापस लेने की मांग जब चरम पर थी, तब मायावती ने कोई घोषणा नहीं की थी। अब मायावती ने किसानों के साथ खड़े होने का मन बना लिया है।

Mayawati urges Centre to withdraw farm laws ahead of Republic Day tractor  rally- The New Indian Express

मायावती ने कहा कि देश के किसानों के प्रति केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार का रवैया अभी तक अधिकतर टकराव का ही रहने से उत्पन्न बड़े गतिरोध के कारण खासकर दिल्ली के पड़ोसीे राज्यों में स्थिति काफी तनावपूर्ण है। इसको देखते हुए नरेंद्र मोदी सरकार को इन आंदोलन करने वाले किसानों से वार्ता करके व इनकी समस्या का हल निकालने का प्रयास करना चाहिए। बसपा पीएम नरेंद्र से इसकी अपील बार-बार करती है।  

केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार को अब तो इनके प्रति संवेदनशील होने की जरूरत है। केंद्र सरकार के फैसले के खिलाफ हम किसानों के साथ खड़े हैं। बसपा की मुखिया मायावती ने मंगलवार को दो ट्वीट किया है। मायावती ने कहा है कि 26 मई को होने वाले किसानों के प्रदर्शन को हमारा पूरा समर्थन है। उन्होंने कहा कि तीन नए कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग को लेकर देश के किसान कोरोना के इस अति-विपदाकाल में भी लगातार आंदोलन कर रहा है। इस बड़े आंदोलन के छह महीने पूरे होने पर पर कल यानी 26 मई को किसानों के देशव्यापी विरोध दिवस को बहुजन समाज पार्टी का समर्थन है।

Like us share us

Leave a Reply

Your email address will not be published.