यूपी: रास्ते में दिखी बीमार महिला तो स्मृति ने रुकवाया अपना काफिला, एंबुलेंस में बिठाकर भेजा अस्पताल

केंद्र में दूसरी बार मोदी सरकार बनने के बाद पहली बार अमेठी के दो दिवसीय दौरे पर पहुंची कैबिनेट मंत्री स्मृति ईरानी ने सबसे पहले दिवंगत भाजपा नेता सुरेंद्र सिंह के बरौलिया स्थित घर जाकर उनके परिजनों से मुलाकात की। इस दौरान उनके साथ गोवा के मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत भी थे। करीब 20 मिनट बाद प्रमोद सावंत बाहर आए और मीडिया से बात की। उन्होंने कहा, मैं यहां सुरेंद्र सिंह के परिजनों से मिलकर शोक संवेदना व्यक्त करने के लिए आया हूं। एक अच्छे कार्यकर्ता की हत्या हो जाना एक दुर्भाग्यपूर्ण घटना है।

उन्होंने कहा कि अगर स्मृति ईरानी उन्हें यहां विकास कार्य के लिए कहती हैं तो वे जरूर करेंगे। मैंने 2014 के लोस चुनाव में अमेठी में 22 दिन गुजारे थे। मैं भी पार्टी का कार्यकर्ता हूं।

उन्होंने कहा कि स्वर्गीय मनोहर परिकर यूपी से राज्यसभा सांसद थे। ऐसे में उन्होंने एक गांव को गोद लिया था। अगर स्मृति ईरानी हमसे विकास कार्य करने के लिए कहेंगी तो हम जरूर यहां शिक्षा व अन्य क्षेत्रों में विकास करना चाहेंगे।

परिकर द्वारा बरौलिया गांव में चप्पल बांटने को लेकर लोकसभा चुनाव के दौरान कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा द्वारा लगाए गए आरोपों के बाबत प्रमोद सावंत ने कहा कि सेवा करना हमारा धर्म है। स्वर्गीय पारिकर जी की भी यही सोच थी और मेरी भी यही सोच है।

इस बीच सुरेंद्र सिंह के परिजनों से मिलकर लौटते समय स्मृति ईरानी को रास्ते में एक महिला मरीज दिखाई दी। जिसे देखने के बाद उन्होंने अपना काफिला रुकवाया और अपने कॉनवाय में शामिल एंबुलेंस से उस बीमार महिला को इलाज के लिए अस्पताल भेजा। 

Like us share us

Leave a Reply

Your email address will not be published.