कश्मीर के पुलवामा में आतंकियों से हुई मुठभेड़इजरी गांव का जवान जिलाजीत शहीद


जौनपुर।(आरएनएस ) में जिले का बेटा शहीद हो गया। सिरकोनी क्षेत्र के धरहौरा इजरी के निवासी 26 वर्षीय जिलाजीत यादव मां बाप के इकलौते संतान थे। जिलाजीत की मौत की खबर मिलते ही घर पर कोहराम मच गया। जवान के पिता कांता प्रसाद यादव की दो साल पहले ही मौत हो गई थी।

उनकी तीन बहनें हैं। शही जवान जिलाजीत की शादी कुछ साल पहले ही पूनम यादव के साथ हुई थी। उनको सात महीने का बेटा बेटा। जिलाजीत अकेले बेटे थे और उनकी दो बहनें हैं। जिलाजीत ने सरस्वती निकेतन इंटर कॉलेज बैरीपुर सिरकौनी इंटर कॉलेज से इंटर किया था। इसके बाद वह सेना में भर्ती हो गए थे।  उनके पिता किसान थे। शहीद जवान वर्ष 2014 में 53 राष्ट्रीय रायफल में तैनात थे। पुलवामा में आतंकियों से मुठभेड़ करते हुए रात दो बजे शहीद हो गए। सेना की ओर से फोन कर परिजनों को जानकारी दी गई। सूचना मिलते ही पत्नी, मां और बहनें बदहवास हो गई हैं। वहीं गांव में भी कोहराम मच गया है। शहीद जवान जिलाजीत छह महीने पहले ही घर आए थे। जाते हुए घरवालों से लौटकर आने का वादा करके गए थे लेकिन वादा पूरा नहीं कर पाए। जवान के शहीद होते ही जिला प्रशासन के आला अधिकारी घर पर पहुंच गए हैं।
फोटो 01जेएनपी। इजरी गांव का शहीद जवान और रोते वलिखते परिजन।

Like us share us

Leave a Reply

Your email address will not be published.