MP के राज्यपाल और लखनऊ से पूर्व सांसद लालजी टंडन का निधन, पीएम-राष्‍ट्रपत‍ि ने जताया शोक

लखनऊ, s cyadav। Lalji Tandon: मध्यप्रदेश के राज्यपाल लाल जी टंडन (85 वर्ष) का मंगलवार सुबह निधन हो गया। वह मेदांता लखनऊ में कई दिनों से वेंटिलेटर पर भर्ती थे। उन्होंने सुबह 5:35 बजे अंतिम सांस ली। उनके पुत्र नगर विकास मंत्री आशुतोष टंडन ने ट्वीट से जानकारी दी। सोमवार को उनकी हालत नाजुक बताई जा रही थी। इसको लेकर सोमवार को मेदांता अस्पताल की तरफ से मेडिकल बुलेटिन भी जारी किया गया था, जिसमें उनकी हालत नाजुक होने की बात कही गई थी।

लाल जी टंडन को 11 जून को हालत बिगड़ने पर मेदान्ता अस्पताल में भर्ती कराया गया। 13 जून को पेट मे रक्तस्राव होने पर ऑपरेशन किया गया। इसके बाद वह वेंटिलेटर पर चले गए। हल्का सुधार हुआ तो दो दिन बीच में बाई-पैप मशीन पर शिफ्ट किया गया। मगर तबियत फिर बिगड़ गई। न‍िधन की सूचना पर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, राज्‍‍‍‍‍‍यपाल आनंदीबेन पटेल, मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और उप मुख्यमंत्री डॉक्टर दिनेश शर्मा श्रद्धांजलि देने उनके आवास पर पहुंंचे।  उनके पुत्र मंत्री आशुतोष टंडन ने बताया क‍ि अंतिम यात्रा चार बजे गुलाला घाट चौक के लिए प्रस्थान करेगी। अंतिम संस्कार लखनऊ में गुलाला घाट पर 4:30 बजे संपन्न होगा। कोरोना आपदा के कारण उन्‍होंने लोगों से अपील की है क‍ि शासन द्वारा निर्धारित दिशा-निर्देशों का पालन करते हुए अपने-अपने घरों से ही पूज्य बाबूजी को श्रद्धा-सुमन अर्पित करें, जिससे कि सोशल डिसटेंसिंग का पालन हो सके। उनके निधन पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शोक व्यक्त किया है।

जीवन परिचय एक नजर में

  • 12 अप्रैल 1935 को लखनऊ में जन्म हुआ था।
  • शिक्षा लखनऊ विश्वविद्यालय से स्नातक तक शिक्षा ग्रहण की।
  • 1952 में जनसंघ के संस्थापक सदस्य बने।
  • लखनऊ नगर महापालिका 1962 और दोबारा 1967 में सभासद चुने गए।
  • 1974 में लखनऊ पश्चिम विधानसभा से विधायकी चुनाव में डेढ़ हजार मतों से हार गए। इस दौरान वह लखनऊ महानगर जनसंघ के अध्यक्ष बने। जेपी आंदोलन के उत्तर प्रदेश के सह संयोजक बने।
  • छह मई 1978 से पांच मई 1984 तक विधान परिषद का सदस्य चुने गए।
  • छह मई 1990 से अक्टूबर 1996 तक विधान परिषद के सदस्य के साथ ही विधान परिषद में नेता सदन भी रहे।
  • 24 जून 1991 से छह दिसंबर 1992 तक प्रदेश सरकार में ऊर्जा एवं आवास, नगर विकास मंत्री बनाए गए
  • 1996 के मध्यावधि चुनाव में पहली बार भाजपा के टिकट पर विधान सभा का चुनाव में जीत हासिल की
  • 21 मार्च से 1997 से आठ मार्च 2008 तक और तीन मई 2002 से 25 अगस्त 2003 तक आवास एवं नगर विकास मंत्री रहे।
  • 2009 चुनाव में वह लोकसभा का चुनाव जीते लेकिन 2014 के चुनाव में भाजपा ने उनकी 21 अगस्त 2018: बिहार के राज्यपाल की जिम्मेदारी।
    20 जुलाई 2019: मध्यप्रेदश के राज्यपाल बनाए गए।
    21 जुलाई 2020: निधन। जगह राजनाथ सिंह को अपना उम्मीदवार बनाया था।
Like us share us

Leave a Reply

Your email address will not be published.